कुशीनगर।एटीएस की कार्रवाई से कुशीनगर में दहशत

सुनील कुमार तिवारी

कुशीनगर।एटीएस की कार्रवाई से कुशीनगर में दहशत

कुशीनगर।उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) की टीम ने यूपी और बिहार से 10 लोगों को गिरफ्तार कर आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैय्यबा के फंडिंग नेटवर्क से जुड़े होने का दावा किया है. इस कार्रवाई में कुशीनगर जिले के जनपद मुख्यालय पडरौना व पडरौनाछ कोतवाली के गरुणनगर के हथिसार मोहल्ला निवासी मुशर्रफ उर्फ़ डब्लू पुत्र युनुस दो भाई व 5 बहन में सबसे छोटा लड़का है. लगभग 5 वर्ष पूर्व पिता की मौत हो जाने के बाद मुशर्रफ उर्फ़ डब्लू अपनी बहन के घर गोरखपुर जाकर रहने लगा. बड़ा भाई विदेश में रहता है जो वर्तमान में घर तो आया है लेकिन छोटे भाई की गिरफ़्तारी के बाद घर से फरार हो गया है।मुशर्रफ उर्फ़ डब्लू अपना नाम बदल कर निखिल राय बन गया और गोरखपुर में ही प्रापर्टी डीलर का काम करता था.

एटीएस टीम की कार्रवाई के बाद कुशीनगर जनपद में दहशत का माहौल बना हुआ है. मुशर्रफ उर्फ़ डब्लू के घर केवल महिलायें विलाप कर रही हैं. मुशर्रफ का बड़ा भाई घर छोड़ कर फरार हो गया है. घर पर केवल मुशर्रफ की माँ और बहनें हैं जो भाई के लिए विलाप कर रही हैं. आरोपित की माँ इस कार्रवाई को फर्जी बताते हुए मुशर्रफ को फंसाए जाने की बात कहते हुए रो-रो कर बेहोश हो जा रही हैं. पडरौना कोतवाली के पडरौना नगर के इस हथिसार मोहल्ले में सन्नाटा पसरा हुआ है।
बताते चलें कि लगभग दो वर्ष पूर्व 22 जनवरी 2016 को एटीस टीम ने छापेमारी कर कसया शहर के 3 युवकों को गिरफ्तार किया था. पूछ-ताछ करने के बाद दो लोगों को छोड़ दिया गया. जबकि मुख्य अभियुक्त रिजवान को आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त होने और खाते में अधिक पैसा होने के कारण एटीस अभिरक्षा में रख लिया गया था. दो वर्ष के अन्दर कुशीनगर से आतंकवादी संगठनों से जुड़े होने के कारण अब तक 4 लोगों को एंटी टेररिस्ट स्क्वायड टीम (एटीस) द्वारा गिरफ्तार किये जाने से लोग काफी भयाक्रांत हैं।लोगों का मानना है कि यदि एटीस टीम अभी और गहनता से कार्रवाई करे तो कुछ और अहम सुराग हाथ लग सकता है. क्योंकि कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध पर्यटक स्थली और अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट होने के कारण यह जनपद आतंकवादियों के निशाने पर माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *