शिक्षा ब्यवस्था को सुदृण बनाने के लिए विश्वास कायम करने की जरूरत:प्रोफेसर सुरेन्द्र दुबे

सुनील कुमार तिवारी : कुशीनगर

उन्होंने बताया कि जो नैतिक शिक्षा घरों में दी जाती थी अब वह नहीं दी जा रही है । जिससे जीवन मूल्यों में गिरावट हुई है । उन्होंने कहा कि आज का युवा नियम का पालन करके नहीं ,नियम तोड़कर आगे बढ़ना चाहता है । अधिकार और कर्तव्य के बीच आ गए बढ़े रिक्ति की भी चर्चा की।

प्रोफेसर श्री दूवे को बुद्ध पी जी कॉलेज कुशीनगर में अभिव्यक्ति 2018, वार्षिक समारोह के सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं पुरस्कार वितरण समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे । प्रो दुबे ने सांस्कृतिक प्रतियोगिता के दौरान विभिन्न सांस्कृतिक प्रस्तुतियों को देख काफी सराहना किया । प्रो दुबे ने प्रति वर्ष स्नातकोत्तर हिंदी में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थी को पुरस्कार देने की भी घोषणा की । अध्यक्षता कर रहे मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो श्रीनिवास सिंह ने कहा कि बुद्ध स्नातकोत्तर महाविद्यालय व इस क्षेत्र की मिट्टी को बहुत उपजाऊ बताया । उन्होंने कहा कि इस महाविद्यालय में बहुत बड़े और योग्य विभूतियों को उत्पन्न किया है । कहा कि एक महाविद्यालय के वार्षिकोत्सव में दो कुलपतियों का आना बड़ी बात है । उन्होंने कहा कि जनपद भले ही पिछड़ा क्षेत्र में आता है लेकिन यहां मेघा की कमी नहीं है । यहां के विद्यार्थि बहुत अच्छा प्रदर्शन जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में कर रहे है । विशिष्ट अतिथि सचिव डॉ दया शंकर तिवारी , सदस्य बेचन पाण्डेय ने भी सम्बोधित किया । अतिथि परिचय व स्वागत प्राचार्य डॉ अमृतांशु शुक्ल ने किया। संचालन डॉ कौस्तुभ नारायण मिश्र व डॉ गौरव तिवारी ने किया । इसके पूर्व अतिथियों द्वारा वर्ष 2017 में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाली समीक्षा तुलस्यान एम काम द्वितीय वर्ष , अदिति गुप्त बी काम तृतीय वर्ष , कुमारी मोनिका मद्देशिया एमए इतिहास अन्तिम वर्ष , अनामिका राव एमए राजनीति शास्त्र , पुष्पा भारती एमए प्राचीन इतिहास , माधुरी वर्मा एम ए मनोविज्ञान , विजयश्री पाण्डेय एमए हिन्दी , शिल्पी मिश्र एमए भूगोल , कुमारी सिन्धु पटेल एमएसी प्राणिविज्ञान , कुमारी अमृता जायसवाल बीए , शमशाद आलम बीएससी गणित और प्रकीर्णिका मिश्र ने बीएससी जीवविज्ञान को सरदार दलीप सिंह मजीठिया सम्मान और स्वर्ण पदक दिया गया तथा वार्षिकोत्सव के दौरान सम्पन्न हुए निबंध , वाद विवाद , क्विज , रंगोली व सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं में स्थान प्राप्त प्रतिभागियों को मेडल ,प्रशस्ति पत्र व पुरस्कार दे कर सम्मानित किया गया । बीएड विभाग की अध्यक्ष डॉ अंजुला शुक्ला ने इस अवसर पर शिक्षा संकाय में प्रति वर्ष सर्वाधिक अंक लाने वाले विद्यार्थी को महेश माधव शुक्ल स्मृति पुरस्कार रुपये 5000 नकद व प्रशस्ति पत्र प्रति वर्ष देने की घोषणा की । कार्यक्रम के अंत में वार्षिकोत्सव के समन्वयक डॉ राजेश कुमार सिंह ने आभार ज्ञापित किया । इस दौरान डॉ रेखा तिवारी ,डॉ अंजुला शुक्ला, डॉ कुमुद त्रिपाठी ,डॉ ऊर्मिला यादव ,डॉ रीना मालवीय ,डॉ ज्ञान प्रकाश मंगलम ,डॉ इंद्रजीत मिश्र ,डॉ पी सैम ,डॉ इंद्रासन प्रसाद ,डॉ रितेश सिंह ,डॉ उमाशंकर तिवारी ,डॉ रामभूषण मिश्र ,डॉ सत्यप्रकाश , डॉ राकेश चतुर्वेदी ,डॉ राजेंद्र प्रसाद , डॉ त्रिभुवन नाथ त्रिपाठी , डॉ दुर्गेश मणि त्रिपाठी ,आनन्द उपाध्याय , डॉ जितेंद्र मिश्र ,डॉ अजय मिश्र , डॉ हरिशंकर पाण्डेय , डॉ अजित तिवारी , विजय शर्मा , संजय, बृजकिशोर दुबे , मोहन मिश्र , अमित आदि उपस्थित थे ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *